सतर्कता निदेशालय की भूमिका और कर्तव्य केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC) के विशिष्ट अध्याय (सतर्कता खंड 1 का अध्याय XVIII) के अनुरूप है। सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के लिए सतर्कता

भाविप्रा एक सेवा संगठन है। सतर्कता निदेशालय की भूमिका और कर्तव्य निम्नानुसार हैं।

निवारक भूमिका
अपनी निवारक भूमिका में यह निदेशालय जागरूकता अभियान चलाता है, जिसमें रोज़मर्रा के ऐसे मामले जिनमें अवैध कार्यों एवं भ्रष्टाचार की संभावनाएँ हों, के प्रति संवेदनशीलता सृजित करता है। इन अभियानों में सतर्कता जागरूकता सप्ताह सम्मिलित है, जो कि प्रतिवर्ष आयोजित किया जाता है। इसके अतिरिक्त भ्रष्टाचार उन्मुक्त परिवेश के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए पूरे वर्ष अलग अलग स्थानों पर सतर्कता जागरूकता कार्यक्रम जैसे कार्यशालाएँ, जिनमें व्याख्यान , अध्ययन गोष्ठियाँ इत्यादि सम्मिलित हैं, आयोजित की जा रही हैं।

दंडात्मक भूमिका
अपनी दंडात्मक भूमिका में यह निदेशालय अनुशासनिक प्राधिकारी को सतर्कता की दृष्टि से दोषियों को तुरंत दंड देने में सहायता प्रदान करता है और यह कार्य प्राप्त मामलों पर शीघ्र कार्रवाई कर तथा अनुशासनिक कार्यवाहियों के विभिन्न स्तरों को मॉनीटर करके किया जाता है।

निगरानी और गुप्तचर की भूमिका
निगरानी और गुप्तचर की भूमिका में यह निदेशालय आकस्मिक और नियमित निरीक्षणों की योजना बनाता है और उन्हें लागू करता है। यह निदेशालय अवैध कार्यों अथवा भ्रष्टाचार के अस्तित्व और व्यवस्था में आई खराबियों का पता लगाने के लिए CTE प्रकार के निरीक्षणों को योजनाबद्ध कर लागू करता है। यह आंतरिक लेखा परीक्षा रिपोर्टों तथा वार्षिक संपत्ति विवरण आदि रिपोर्टों की संवीक्षा का कार्य भी करता है।