AAI Fights Covid-19

Distribution of Food packets in New Delhi by CHQ

On 29th March 2020, with the help of funds collected from voluntary contribution by AAI Employees, CSR funds and Resident Welfare Association (INA Colony), food packets were distributed to 1500 – 1700 people per day. Apart from this, one week of Ration (Raw Food) was also distributed to 50-60 families (having up to Five Members Each) per day.

 

 

CSR/CER activities related to COVID-19 at MBB Airport, Agartala, Tripura

Under the CER scheme 6000 kg of food grains were procured by Agartala Airport from FCI amounting to Rs 1. 26 Lakhs with an objective to support over 1000 poor families. The food grain were then distributed to various families of Khowai district on 31st March, at Satsangpara, Usha Bazar area & Durga Chowmuhani area on 30th April 2020, at Bahadur Sardar Para in the interior of Atharamura hill range and at Kelring, Krishna Hau & Devthang areas on 02 May 2020 On 10th May 2020, food grains, masks and essential items were distributed to about 120 families in the interior of Usha Bazar area in the presence of the Hon’ble MLA and Gram panchayat leaders.

 

 

Under the CSR scheme, MBB Airport donated Rs 10 lakhs to the DM(West Tripura) and an additional amount Rs 1 lakh to Addl. DM, Gomti district, Govt of Tripura to support the  Govt. in their fight against Covid-19. The fund under CSR is aimed to help Health workers, Police and other frontline warriors deputed during Corona outbreak.

 

 

CSR activities related to COVID-19 carried out by Dibrugarh Airport, Assam

To support the Dibrugarh District Administration in the fight against COVID-19, Airports Authority of India, Dibrugarh provided funds amounting Rs. 8.00 lakhs under CSR scheme, to procure various materials for combating COVID-19. The same is being utilised to procure protective materials for Police personnel.

 

 

CSR activities related to COVID-19 carried out by Dimapur Airport, Nagaland

Dimapur Airport extended support to state administration in fight against COVID-19 by handing over the cheque of Rs. 10.00 Lacs to Deputy Commissioner, Distt. Disaster Management Authority (DDMA), Dimapur.

 

 

CSR activities related to COVID-19 at LGBI Airport, Guwahati, Assam

Stitching of over 25000 masks was done from the unused fabric of AAI’s staff uniform. The stitching work was provided to the economically needy people residing at places nearby the Airport. The masks were distributed to the local population, security personnel, contract labourers etc.

 

 

During the lockdown LGBI Airport Guwahati, being a responsible organisation, distributed uncooked food items to the needy people living in the vicinity of the airport. AAI procured and distributed 10 ton of rice through Panchayats and Emergency food relief drives.

 

 

CSR activities related to COVID-19 at Jorhat Airport, Assam

Jorhat airport provided financial support of Rs. 9.81 Lakhs to Jorhat Medical College and Hospital through a cheque handed over to DC, Jorhat. 50,000 masks were also procured under CSR from Rural Woman self-help group, ‘Kaliapani, Teok’, a project of Assam Government through DC Office for a cost of Rs. 75,000.

 

 

CSR/CER activities related to COVID-19 at Shillong Airport, Meghalaya

Shillong Airport distributed food grains to about 500 needy families amid lockdown under CER. On 23.04.2020, about 5000 KG of rice was distributed to the 08 Village Panchayats covering around 506 needy families living around the Shillong Airport.

 

 

Airports Authority of India (AAI), Shillong Airport under its CSR scheme has already donated Rs 10 Lakh for the State Govt during the Covid-19 outbreak.

CSR activities related to COVID-19 at Lengpui Airport, Mizoram

AAI Lengpui Airport, provided funds amounting to Rs 10 Lakhs to Govt of Mizoram for the procurement of PPE kits. The cheque for Rs 10 lakhs was handed to Chief Minister of Mizoram on 29/04/2020 at Lengpui airport in presence of AAI and GAD(AV) officials.

 

 

CSR activities related to COVID-19 at Silchar Airport, Assam

Silchar Airport procured Rice grains worth Rs.2 Lakhs from FCI, Silchar. 80 Quintals food grains were distributed to 1600 families, comprising mostly Tea Garden & Daily wage laborers in 08 TE/Villages namely Langlacherra, Nisthol (Borkhol), Kumbhirgram, Paatichhoda, Itachura, Nursing, Larsing Park (Chhota Singa) & Airport vicinity in coordination with Shri Mihir Kanti shome , Hon'ble MLA, Udharbond.

 

 

CSR/CER activities related to COVID-19 at Imphal Airport, Manipur

Airports Authority of India (AAI), Imphal Airport under its CSR funds distributed 10,000 hand sanitisers and 10,000 face masks to the Police Department and 1000 hand sanitisers and 1000 face masks to Transport Department in presence of Hon'ble Chief Minister of Manipur, N Biren Singh.

 

 

Imphal Airport also distributed 8000 Kg Rice to needy people under CER schemes.

 

 

CSR activities related to COVID-19 at Tezpur Airport, Assam

Tezpur Airport donated Rs 10 lakhs to DC Sonitpur for procurement of Healthcare equipment and medical kits. The airport also donated Rs 10 lakhs to DC Bhalukpong, West Kemang District, Arunachal Pradesh for the same purpose.

 

 

Tezpur Airport officials also distributed food relief materials to 350 needy persons in Bhalukpong, West Kemang District, Arunachal Pradesh through EAC Bhalukpong in addition to food kits worth Rs 5.13 Lakhs to 1600 families in surrounding areas such as Dhekiajuli LAC, Holeshwar, Dekargaon, Niz Goraimari,Sonitpur.

 

 

COVID-19 related efforts by RHQ ER, NSCBI Airport Kolkata, West Bengal

On 15th May 2020, RHQ ER utilised Rs 10 Lakhs of CSR funds to distribute 70 Quintals of Rice, 20 Quintals of Dal, 34 Quintals of Potato, 2000 bottles of sanitisers, hand gloves, shoes and 250 Full PPE kits which were later distributed to families in need.

 

 

CSR activities related to COVID-19 at Coimbatore Airport, Tamil Nadu

Under CSR activities, AAI Coimbatore airport took many initiatives to combat COVID-19. The airport sponsored fully Equipped Ambulance to Department of Preventive Medicine and Public Health, Coimbatore worth Rs 30 Lakhs.

 

 

The airport also sponsored 3 Ply Face Mask to Government Medical College and Hospital, Coimbatore as well as Department of Preventive Medicine and Public Health, Coimbatore for Rs 1.05 lakhs. The airport also sponsored alcohol based hand to Government Medical College and Hospital, Coimbatore, Department of Preventive Medicine and Public Health, Coimbatore and ESI Hospital, Coimbatore worth Rs 1.70 Lakhs.

 

 

स्वास्थ्य, स्वच्छता और पानी

भौतिक रूप से चुनौतीपूर्ण व्यक्तियों के लिए 20 मोटरसाइकिलों की प्रावधान, त्रिवेंद्र

एएआई की सीएसआर पहल के तहत लोको मोटर विकलांगों वाले लोगों को 20 मोटरसाइकिल तीन व्हीलर प्रदान करने के लिए परियोजना केरल में आलप्पुषा जिले में ली गई थी। यह जिला तिरुवनंतपुरम और कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों के बीच स्थित है। चूंकि जिले में लोकोमोटर्स विकलांगों के साथ अधिक संख्या में व्यक्ति हैं, पिछले 2-3 वर्षों के दौरान कुछ पीएसई और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने मोटरसाइकिल तीन व्हीलर्स प्रदान करके इस आबादी को समर्थन बढ़ाया है। परियोजना का कुल व्यय रु। 13, 00,000 /।

इस परियोजना को जिला प्राधिकरण / स्थानीय सरकारी निकायों के समन्वय में एएआई त्रिवेंद्रम हवाई अड्डे द्वारा कार्यान्वित किया गया था। मोटर चालित तीन पहियाओं के लाभार्थियों को सरकार के अनुसार विकलांग व्यक्तियों के रूप में प्रमाणित किया जाता है। उचित स्थानीय सरकारी प्राधिकरण द्वारा मानदंड।

आपदा प्रबंधन

राहत और पुनर्वास - उत्तराखंड बाढ़

                                                                

भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण द्वारा भाविप्रा, उत्तराखंड राज्य सरकार और भारतीय वायुसेना के बीच उत्कृष्ट समन्वय में जॉली ग्रांट हवाईअड्डे पर चौबीस घंटे प्रचालन सुव‍ि‍धा उपलब्‍ध करवाता है जिससे राज्‍य में आने वाली किसी प्राकृतिक आपदा की स्थिति में‍ि‍राहत कार्यों के लिए हेलिकाप्‍टर, विमान और ग्राउंड प्रचालन का निर्बाध प्रवाह हो सके।  भाविप्रा ने बाढ़ पीड़ितों के लिए आपातकालीन सेवाएं देने के लिए  और हवाईअड्डे पर यात्रियों, उनके रिश्तेदारों और शुभचिंतकों को संभावित सहायता और सहयोग प्रदान करने के लिए एक सहायता डेस्क-सह-राहत शिविर की स्थापना की। भाविप्रा द्वारा 8 दस सीट मोबाइल टॉयलेट वैन, 6 टेलीफोन कनेक्शन और अस्थायी आश्रय / शिविरों में डॉक्टरों, पेयजल और खाद्य सुविधा की टीम के साथ 2 एम्बुलेंस उपलब्‍ध करवाई गई है। भाविप्रा द्वारा इस हवाईअड्डे के माध्यम से राहत उड़ानों के संचालन के लिए लैंडिंग पार्किंग शुल्क में छूट दी गई है।

भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण के कर्मचारियों ने प्रधानमंत्री राहत निधि में दिन के वेतन का योगदान दिया। 3.20 करोड़ रूपये  की राशि के लिए एक चेक बाढ़ प्रभावित राज्य के उज़ड़े कस्बों और गांवों की सहायता के लिए राहत कार्यों की सहायता से प्रधान मंत्री राहत निधि में योगदान के लिए भेजे गए थे। इसके अलावा, भाविप्रा उत्तराखंड में प्राकृतिक आपदा के कारण बुरी तरह से प्रभावित होने  वाले गांव के पुनर्निर्माण और पुनर्वास के लिए इसे गोद लेने की योजना बना रहा है।

भाविप्रा ने 2010 में लेह में बाढ़ प्रभावित आबादी को आपदा राहत प्रदान करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

कौशल विकास

जयपुर में वंचित महिलाओं के लिए 'आशा' कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम

जयपुर हवाई अड्डे के पास 'संगानेर' क्षेत्र में रहने वाली बेरोजगार महिलाओं के लिए 2012 में भाविप्रा ने छह महीने के कौशल विकास कार्यक्रम की शुरुआत की है। कार्यक्रम में कपड़ो की कटाई और सिलाई, साफ्ट खिलौने बनाने और टाई और डाई के संबंध में  16 बैचो में 180 महिलाओं को प्रशिक्षित किया गया है। प्रशिक्षण के अवसर तक बेहतर पहुंच प्रदान करने के लिए, परियोजना को उस समुदाय के भीतर केंद्र में लागू किया जाता है जहां लाभार्थियों रहते हैं। इस पहल ने न केवल उपयोगी रोजगार के लिए समुदाय की बेरोजगार महिलाओं के लिए नए अवसर खोले हैं, बल्कि सामूहिककरण के माध्यम से सशक्तिकरण के अवसर भी खोले हैं।

वंचित युवाओं के लिए "यूवा स्टार" कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम

एनआईआईटी फाउंडेशन के साथ साझेदारी में भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण ने एक अत्याधुनिक करियर विकास केंद्र शुरू किया है। यह परियोजना अगस्त 2011 से शुरू हुई है। केंद्र हर साल 500 से अधिक युवाओं को नौकरी उन्मुख प्रशिक्षण प्रदान करता है, जो कि हवाई अड्डे के आसपास के समाज के पास रहते हैं।

कैरियर डेवलपमेंट सेंटर रोजगार उद्योग के अवसर प्रदान करने के लिए युवाओं के कौशल को अपग्रेड करने के लिए सॉफ्ट कौशल विकास में सेवा उद्योग प्रमाणन (एसआईसी) कार्यक्रमों और प्रशिक्षण कार्यक्रमों जैसे अल्पकालिक पाठ्यक्रम प्रदान करता है। इस परियोजना के माध्यम से 300 से अधिक युवा छात्रों को प्रशिक्षित किया गया है, जिनमें से 7 छात्रों को विभिन्न नौकरियों में रखा गया है।

यह एक स्थापित तथ्य है कि, अधिकांश भारतीय श्रमिकों को अपनी आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए रोजगार के कौशल और रोजगार के अवसरों की आवश्यकता होती है। इस संदर्भ में, भाविप्रा इस सीएसआर पहल के माध्यम से हवाई अड्डों के आसपास रहने वाले वंचित युवाओं की नियोक्तायता में सुधार करने में काफी भूमिका निभाने की कोशिश करता है।

उपलब्‍ध पाठ्यक्रमों: कैरियर विकास केंद्र रोजगार उन्मुख पाठ्यक्रम प्रदान करता है। पाठ्यक्रम छात्रों को नए कौशल सीखने और अपने मौजूदा कौशल को बढ़ाने में मदद करते हैं ताकि उन्हें कम अवधि में रोजगार हेतु तैयार कर सकें। योग्य छात्रों को रोजगार सहायता प्रदान की जाती है। इसके अलावा, भाविप्रा स्कूलों के छात्रों को बेसिक आईटी और अंग्रेजी जैसे गैर- रोजगार उन्मुख पाठ्यक्रमों पर प्रशिक्षित किया जाता है।

आवश्यकता आधारित समुदाय

सामुदायिक विकास व्यापार लक्ष्यों के साथ समेकित एकीकृत।


त्रिवेन्द्रम हवाई अड्डे, केरल के पास स्थानीय मछली बाजार के लिए बेहतर सुविधा।


 

त्रिवेन्द्रम हवाई अड्डे पर पेरुनेल्ली जंक्शन में खुले मछली बाजार इधर- उधर बिखरा हुआ और असंगठित तरीके से काम करता था और मछलियों के ठोस अपशिष्ट को खुले निपटान स्थानों पर भी निपटाया जाता है, जो न केवल स्वच्छ और पर्यावरणीय रूप से असभ्य है बल्कि हवाई अड्डे के आसपास के इलाकों में पक्षियों टकराव के खतरे का भी कारण बनता है और विमान संचालन में पक्षी के टकराने के लिए संभावित खतरा पैदा करता है।

भाविप्रा द्वारा छत,चारदीवारी और बाजार के शौचालय की सुविधा का निर्माण किया गया । इस परियोजना ने न केवल विमानों के लिए पक्षियों के टकराने के खतरे को कम करने का काम किया है बल्कि 100 से अधिक सब्जी और मछली विक्रेताओं को भी लाभान्वित किया है- एक बेहतर कामकाजी परिस्थितियों में अपने व्यापार को संचालित करने के लिए- पेयजल और शौचालय की सुविधा, अपशिष्ट प्रबंधन सुविधा और पंखे और रोशनी के लिए बिजली उत्पादन के लिए बायोगैस प्लेट । बायो गैस के माध्यम से विद्युत कनेक्शन के प्रावधान ने अपने बाजार समय में वृद्धि की है, जिसका आजीविका पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। इस परियोजना के लिए कुल रु 48.50 लाख खर्च किए गए थे।

भाविप्रा की सीएसआर नीति द्वारा निर्देशित इस परियोजना को स्थानीय समुदाय की जरूरतों को पूरा करने के लिए विकसित किया गया था - जो कि पेक्‍यांग, सिक्किम में आने वाले ग्रीनफील्ड हवाईअड्डे से सबसे अधिक प्रभावित है। इस परियोजना में दो प्रमुख घटक हैं, जो कि पेक्‍यांग में स्थानीय सामुदायिक जरूरतों के अनुसार बनाई गई है: पेक्‍यांग हेल्थ सेंटर, जो 24X7 उन्नत चिकित्सा सुविधाएं और आपातकालीन स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं प्रदान करता है, लगभग 14,000 लोग पेक्‍यांग शहर के 25 किमी क्षेत्र के भीतर रहते हैं और ग्रामीण जल आपूर्ति परियोजना जो 30 साल की अवधि के लिए लॉसिंग और डिक्‍लिंग गांवों से 2400 लोगों की आबादी के लिए पेयजल सुविधा को काफी हद तक पूरा करता है।

यह परियोजना स्थानीय समुदाय के लिए स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं की अपर्याप्तता को ध्यान में रखते हुए, नए हवाई अड्डे के निर्माण कार्य के शुरू होने के दौरान सोची गई थी। इसके अलावा, पेक्‍यांग में नए हवाईअड्डे के निर्माण के कारण स्थानीय समुदायों की जल सुविधाओं पर अनपेक्षित प्रभाव को स्वीकार करते हुए ग्रामीण जल आपूर्ति परियोजना की आवश्यकता महसूस हुई थी।

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण की यह अनूठी निगमित सामाजिक उत्‍तरदायित्‍व परियोजना सार्वजनिक रूप से लोक सांझेदारी के माध्यम से सार्वजनिक सामुदायिक जरूरतों को संबोधित करती है, जो पोषणीय और प्रतिकृति है। अक्टूबर 2011 में विमानन क्षेत्र में पेक्‍यांग स्वास्थ्य केंद्र परियोजना को 12 वें वार्षिक ग्रीनटेक सीएसआर गोल्डन अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है।

पर्यावरण

भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण रिसाईकलिंग यूनिट

पेपर ऐसी दैनिक वस्तु है जो हमारे दैनिक जीवन में उपयोगी होती और हमारे दिन में पेपर का उपयोग-आज के  जीवन का अनिवार्य भाग बन बया है। औद्योगीकरण, विकास और साक्षरता आदि में वृद्धि के साथ प्रति वर्ष पेपर की प्रति व्यक्ति खपत बढ़ रही है। इसलिए, कागज का पुनर्चक्रण और पुन: उपयोग भी बेहद महत्वपूर्ण हो जाता है।

अर्थपूर्ण तरीके से पर्यावरण संरक्षण और टिकाऊ विकास में योगदान देने के लिए रिसाईकलिंग पेपर के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए कॉर्पोरेट दुनिया में एक प्रमुख भूमिका निभाई गई है। भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण ने कई सामाजिक कल्याण योजनाओं के माध्यम से हवाईअड्डों के आसपास रहने वाले लोगों के जीवन में सुधार करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। "समुदाय को वापिस लौटाना जहां हम रहते हैं और काम करते हैं, समुदायों के सतत विकास की प्रतिबद्धता" सभी को भेजा गया संदेश है, क्योंकि भाविप्रा के सीएसआर का प्रमुख उद्देश्य और दिल्ली में पेपर रीसाइक्लिंग यूनिट की स्थापना पहली सीएसआर परियोजना थी जिसे अध्‍यक्ष कल्याणमयी, भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण महिला कल्याण संघ, श्रीमती अर्चना अग्रवाल के मार्गदर्शन में कल्याणमयी टीम के सदस्य द्वारा एक पहल के रूप में की गई थी। पेपर रीसाइक्लिंग यूनिट का उद्घाटन अध्यक्ष, भाविप्रा, श्री वी.पी. अग्रवाल ने  और श्रीमती अर्चना अग्रवाल, अध्‍यक्षा, एएआईडब्ल्यूडब्लूए द्वारा 2 अक्टूबर, 200 9 को किया गया। भाविप्रा  पेपर रीसाइक्लिंग यूनिट को स्थापित करने में भारत में पहला पीएसयू बन गया जिसके कारण जीआरओडब्‍ल्‍यू (सरकारी रिसाईकलिंग कार्यालय अपशिष्ट) का समर्थन किया गया।

भाविप्रा की सीएसआर परियोजनाओं का उद्देश्य मुख्‍यत: सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर समुदायों के विकास और समाज के वंचित वर्गों के विकास के लिए गतिविधियों और सदस्यों और उनके परिवारों के लाभ के लिए सामाजिक सांस्कृतिक और शैक्षिक गतिविधियों करना है। इकाई 21 लोगों को रोजगार मुहैया करा रही है। यूनिट में लगे अधिकांश कर्मचारी पहले महिपालपुर, नई दिल्ली की तत्कालीन भाविप्रा आवासीय कॉलोनी में धोबी, घरेलू सहायता इत्यादि के रूप में काम कर रहे थे और डॉयल  द्वारा भाविप्रा आवासीय कॉलोनी को लेने के कारण विस्थापित हुए थे। हम उन्हें यहां लाए, उन्हें कौशल सिखाया और उन्हें अपनी गरिमा वापस दे दी।

 वर्तमान में, भाविप्रा पेपर रीसाइक्लिंग यूनिट (एएआईपीआरयू) क्षेत्रीय कार्यपालक निदेशक (एनआर) के अधीन कार्य कर रही है तथा भाविप्रा की प्रमुख निगमित सामाजिक उत्‍तरदायित्‍व परियोजना है और यह सीएसआर तथा व्‍यावसायिक क्रियाओं की एकीकृत करने हेतु अन्‍य पीएसयू के बीच एक उदाहरण है।

भाविप्रा पेपर रीसाइक्लिंग यूनिट द्वारा मई, 2014 तक लगभग 182 टन कागज का  उत्पादन किया है। कार्यालय पेपर अपशिष्ट रीसाइक्लिंग । एएआईपीआरयू द्वारा भाविप्रा को दिए गए पेपर उत्पादों का अनुमानित मूल्य 1,66,00,000 / - (रुपये एक करोड़ छियासठ लाख रुपये) है। जब हर कोई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मंच पर ग्लोबल वार्मिंग पर चर्चा कर रहा है तो अकेले एएआई पेपर रीसाइक्लिंग यूनिट द्वारा मई, 2014 तक पर्यावरण योगदान के  कुछ रोचक तथ्य:

एएआईपीआरयू ने रीसाइक्लिंग पेपर द्वारा 3105 बड़े पेड़ बचाए हैं।

एएआईपीआरयू ने बिजली के 748804.5 किलोवाट घंटे की बचत की हैं।

एएआईपीआरयू ने 365 बैरल तेल की बचत की है ।

एएआईपीआरयू ने 1278447 गैलन पानी की बचत की है ।

एएआईपीआरयू ने लैंडफिल स्पेस का 547 क्यूबिक गज की बचत की है।

 

 

एएआईपीआरयू ने 3105 बड़े पेड़ बचाए हैं जो 45658 टन कार्बन डाइऑक्साइड को संसाधित कर सकते हैं जो ग्लोबल वार्मिंग का एक महत्वपूर्ण ग्रीनहाउस गैस है।

एएआईपीआरयू द्वारा उठाई गई पर्यावरण जागरूकता पहल: इकाई ने वर्तमान प्रासंगिकता के कारण दिल्ली और एनसीआर के कई प्रसिद्ध स्कूलों के छात्रों को आकर्षित किया है। वर्ष 2011, 2012, 2013 और 2014 के ग्रीष्मकालीन छुट्टियों के दौरान प्रसिद्ध स्कूलों जैसे श्री राम स्कूल, अरावली, एनसीआर, डीपीएस (आरके पुराम, वसंतकुंज) मॉडर्न स्कूल, शेरवुड कॉन्वेंट, डीएलएफ, निर्मलभारती स्कूल, द्वारका के छात्रों ने पर्यावरण के समर्थन और संरक्षण में इसके  महत्व को समझते हुए 10 दिन तक कागज रीसाइक्लिंग प्रक्रिया, क्राफ्टिंग पर  इंटर्नशिप कर इसे सीखा।

इस इकाई ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी विश्‍वसनीयता को साबित किया हैं, 2012 में इको-इनोवेशन पुरस्कार "गोल्डन पीकॉक अवॉर्ड", वर्ष 2012 के लिए टाइम्स ऑफ इंडिया और टेफ्लस "फ्रेम सीएसआर पुरस्कार" और सिंगापुर में अगस्त 2013 में "एशिया का सर्वश्रेष्ठ सीएसआर अभ्यास पुरस्कार" जीता है । इस इकाई ने पर्यावरण प्रबंधन प्रणाली अपनाई है और नवंबर 2013 से प्रभावी आईएसओ 14001: 2004 प्रमाणित इकाई  है।

पेपर रीसाइक्लिंग यूनिट देश भर में एएआई कार्यालयों से एकत्रित पेपर कचरे को उपयोगी पेपर स्टेशनरी उत्पादों में परिवर्तित करता है जैसे कि कोबरा फ़ाइल कवर, फ़ोल्डर्स, विज़िटिंग कार्ड, लिफाफे (सभी आकार), लेटर हेड, आमंत्रण कार्ड, ग्रीटिंग कार्ड्स, कैलेंडर्स इत्यादि । इससे पहले पेपर कचरे को जला दिया, फेंका या या बेचा जा रहा था। देश भर में भाविप्रा कार्यालय अपनी पेपर लेखनसामग्री की उपरोक्‍त आवश्‍यकताओं को एएआईपीआरयू को भेज सकते हैं।

भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण, पेपर रीसाइक्लिंग यूनिट संपर्क विवरण निम्नानुसार हैं: -

भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण पेपर रीसाइक्लिंग यूनिट,

भाविप्रा ट्रांजिट अतिथि गृह,

रंगपुरी,  केन्द्रीय विद्यालय के पास,

इंडियन स्‍पाइन इंजुरी अस्‍पताल के पीछे,

वसंत कुंज,

नई दिल्ली-110 037।

फोन नं 011-26890978। एएआईपीआरयू की ईमेल आईडी है: kmpaperunitatgmail [dot] com

कागज स्टेशनरी आवश्यकताओं के लिए संपर्क व्यक्ति है:

श्री अशोक नारंग, प्रबंधक (स्टोर), एएआई पीआरयू

लैंड लाइन नंबर 011268 9 0 9 78, 01125656335

मोबाइल 0981110888,ईमेल आईडी : ashoknarangataai [dot] aero

CSR initiative towards recycling paper waste in work place - Click for Presentation.

शिक्षा

उदयपुर, राजस्थान के बैकवर्ड जिले में लोकोमोटर्स विकलांगताओं के साथ व्यक्तियों को उपचार के लिए सर्जरी

 

भाविप्रा ने नारायण सेवा संस्थान, उदयपुर, राजस्थान के सहयोग से 500 सीएसआर कार्यक्रम के तहत 500 पोलियो और जन्‍मजात अक्षम बच्चों को निःशुल्क सर्जरी में सहयोग दिया। संगठन पोलियो प्रभावित व्यक्तियों के उपचार और पुनर्वास के क्षेत्र में मुफ्त में सेवाएं प्रदान कर रहा है। ऑपरेशन के बाद रोगियों को उनकी शारीरिक गतिशीलता और पुनर्वास के लिए मुफ्त सहायता उपकरण और एपलांइस मुहैया कराए जाते हैं। इसके बाद, उन्हें आर्थिक पुनर्वास भी प्रदान किया जाता है।

पोलियो और सेरेब्रल पाल्सी भारत में लोकोमोटर्स विकलांगता के दो प्रमुख कारण हैं। देश के विभिन्न हिस्सों में पोलियो से पीड़ित बड़ी संख्या में बच्चे ग्रामीण और अर्ध शहरी क्षेत्रों में रह रहे हैं। कमजोर सामाजिक-आर्थिक स्थिति के साथ-साथ राज्य / जिला अस्पतालों में शल्य चिकित्सा की अनुलब्‍धता सहित व्यापक पुनर्वास सेवाओं की कोई उपलब्धता न होने के कारण  बड़ी संख्या में ऐसे बच्चे शारीरिक विकृतियों के साथ रह रहे हैं। लाभार्थियों को मुख्य रूप से उपचार हेतु सर्जरी की आवश्यकता के साथ एनएसएस में आते हैं। सभी लाभार्थी कुछ प्रकार के लोकोमोटर्स विकलांगता के साथ आते हैं। भाविप्रा द्वारा सीएसआर कार्यक्रम के तहत पोलियो और जन्मजात विकलांगता वाले 500 लोगों के उपचार हेतु सर्जरी की गई  क्योंकि प्रस्तावित पहल उदयपुर के पिछड़े जिलों में आधारित है,  जो वित्‍तीय वर्ष 2013-14 हेतु एमओयू के लिए भाविप्रा द्वारा अंगीकार किया गया जिला है। यह परियोजना 31 जनवरी 2014 को पूरी की गई थी। परियोजना लागत रुपये 17 लाख थी।

Mechanized Central Kitchen for providing mid-day meal by Akshaya Patra in association with State Government

With Airport Authority of India’s support Akshaya Patra has become a voice that fight vociferously against hunger. Both AAI and Akshaya Patra has taken up the task of providing mid-day meal to 200000 children in and around 3 kitchens i.e. Mangalagiri, Guwahati and Hazaribagh  by setting up new Mid Day Meal kitchens through Tripartite  MOU with Akshayaa Patna, District Collector and Airport Authority of India. AAI is helping Akshaya Patra in creating the state-of-the-art kitchens. These under Constuction kitchens will be using technology to cook large amount of food in a short time and keep costs low. These kitchens will be fully mechanized kitchens using steam based cooking, which is not only high efficient in cooking food in little time, but also helps vegetables to retain their nutrients. The other processes like chopping vegetables, preparing bread, loading containers are mechanized increasing the speed of delivery of food and protection against contamination. Even the vehicles used for the transportation of the cooked food to the schools are custom designed to allow for optimal storage and minimal spilling.

 

Project 1: Setting-up of Central Kitchen at Guntur, Andhra Pradesh through AkshayPatra Foundation in association with State Govt

In this scheme, the mechanized kitchen shall be constructed along with provision of vehicle for transportation.  AAI is contributing Rs. 15.33 crores for this project.  This project will provide mid-day meal to up to fifty thousand children initially everyday in Govt. schools across Mangalagiri District. The construction work for kitchen is in its final stages and soon the project will be commissioned.

 

Project 2 :  Funding for Mechanized Central Kitchen in Assam for providing mid-day meal by the AkshayaPatra in Association with State Govt.

AAI is contributing Rs. 15.33 crores for this project.  This project will provide mid-day meal to upto one lakh children every day in Govt. schools across Guwahati dstrict. The project is in commissioning phase.

 

Setting-up of Central Kitchen at Hazaribagh, Jharkhand through Akshay Patra Foundation in association with State Govt.

The modalities for this project is same as that of Central Kitchen in Mangalgiri explained above. AAI is contributing Rs. 20.00 crores for this project.  This project will provide mid-day meal to upto one lakh children every day in Govt. schools across Hazaribagh District.

Empowering people against Hepatitis: The Empathy Campaign

Hepatitis B virus (HBV) and hepatitis C virus (HCV) infection are major causes of acute and chronic liver disease (e.g. cirrhosis and hepatocellular carcinoma) globally, and cause an estimated 14 lakh deaths annually. Worldwide, there are an estimated 2,400 lakh chronically infected persons with hepatitis B particularly in low and middle-income countries. This epidemic is a silent epidemic and more than 80 % of persons infected do not about their infection till it is too late. A person can remain healthy and asymptomatic for years but at the same time it affects their liver slowly and progressively leading to severe liver damage. Since 2000, deaths from viral hepatitis increased by 22%. In India, each year, 1.5 lakh people in India die of hepatitis, which affects almost 60 million Indians. In India, viral hepatitis is a major public health challenge that requires an urgent response with prevention strategies as the key focus area.

Diseases are treated by doctors but can only be prevented by participation of society since prevention is always better than cure. The country has recently seen launch of Viral Hepatitis Control Program on July 28, 2018. The program is likely to a go a long way in providing diagnosis and treatment for the infected. However, the social milieu and the family and work milieu is unlikely to change without understanding of the suffering felt and lived by the infected. The stigma and consequent discrimination associated with these infections is a significant hindrance to care seeking, compliance and mainstreaming. Stigma for those with Hepatitis and their families manifests in many ways starting from self-isolation to ostracization from social relationships and loss of employment. It not only brings their morale and quality of life down, but also prevents them for opportunities in life available to other people. There is a huge gap between physical treatment by drugs and psycho-social support required by individuals, to help people them live a respectable life. They are denied opportunities due to the social stigma and lack of knowledge about the disease. Though, there has been scientific and technological advancement in areas of diagnostics and treatment modalities for hepatitis, there is much left to be done when it comes to awareness about the disease & coverage of vaccination and testing and treatment facilities. It is important to address these gaps so that we progress towards eliminating this disease.

On the occasion of World Hepatitis Day, 28th July 2018, the Institute of Liver and Biliary Sciences along with the Airports Authority of India has launched “The EMPATHY Campaign: Empowering People Against Hepatitis”, a public awareness initiative which aims at spreading pan-India awareness and education on the menace of viral Hepatitis B and Hepatitis C diseases.

Empowering People Against Hepatitis or the ‘EMPATHY’ campaign, being implemented by ILBS, is a four-year project funded by AAI under its corporate social responsibility (CSR) is one such attempt to spread awareness about Hepatitis B & C and address stigma associated with the disease.



 

Project Statement

The overall goal of this four (4) year project is to spread awareness and de-stigmatize Hepatitis B &C and create an enabling environment for individuals with hepatitis B & C in India for social participation and care seeking.

 

Objectives

1.      Generate awareness on Hepatitis B and C across India through sustained advocacy and tailored behaviour change communication for developing and promoting positive behaviours at individual, community and societal levels for people               with hepatitis B & C;

2.      Create a conducive environment at sub-national level to encourage dialogue on hepatitis B & C between policy makers, program managers, care providers, civil society and the patients;



The EMPATHY Campaign aims to achieve effective behaviour change communication by increasing knowledge of stakeholders, stimulating community dialogue, promoting essential attitude change, influencing social response to stigma and discrimination, creating a demand for information and services, advocacy with policy makers and opinion leaders, promoting services for prevention, care and support, and by improving the sense of self-efficacy.

The EMPATHY Campaign will have four target recipients:

1.      General Population

2.      Patients & at-risk population,

3.      Health Care Providers

4.      Policy makers

 

The EMPATHY Campaign would be implemented by EMPATHY Resource Centre, the project secretariat, under the guidance of a Technical Working Group.

 

Scope of activities:

EMPATHY Campaign would focus generating community dialogue for empowering people against Hepatitis B & C, by implementing a mix of call to action initiatives, awareness camps, mass media and social media campaign in conjunction with each other. The EMPATHY Campaign would develop synergies with organizations/partners working on similar themes and make attempts to ensure that all activities are implemented in collaboration with relevant partners to ensure optimal utilization of resources. Further, this campaign would prioritize “Out of The Box”, Innovative approaches for advocacy.

The campaign activities would initially be focused in national capital region of Delhi and subsequently be extended to major cities of India in a phased manner. Geographic expansion would be under the guidance and in consultation with technical working group, with due consideration being accorded to maximizing the project impact within the available funding.

 

For more retails log on to:  https://theempathycampaign.com/