पर्यटक स्थल


नेल्लैपर मंदिर

यह दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के एक शहर तिरुनेलवेली में स्थित एक हिन्दू मंदिर है जो भगवान  शिव को समर्पित है। शिव को नेल्लैपरके (वेणुवंनाथार भी कहा जाता है ) जिसे शिवलिंग के रूप में  और उनकी  पत्नि पार्वती को कांतिमति अम्मान के रूप में दिखाया गया है  है। यह मंदिर तिरुनेलवेली जिले में तामिरापारानी नदी के उत्तरी तट पर स्थित है। 

श्रीक्रितिकांतॅनॅथन पेरुमल मंदिर, श्रीवैकुंठम

श्रीवैकुण्ठनाथन पेरुमल ( श्रीवैकुंठम  मंदिर और कालपीरन मंदिर के नाम से भी जाना जाता है ) श्रीवैकुंठम , दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के  तूतूकुड़ी जिला में एक शहर में है जो हिंदू भगवान विष्णु को समर्पित है। यह तिरूनेलवेली से 22 किमी स्थित है। इस मंदिर के निर्माण में द्रविड़ शैली की वास्तुकला का प्रयोग किया गया है , मंदिर में दिव्य प्रबन्ध, प्रारंभिक मध्ययुगीन तमिल कैनन 6-9 वीं शताब्दी ...और अधिक पढें।

लेडी ऑफ स्नोच्या चर्च, तूटिकोरिन

यह चर्च पहले सेंट पॉल चर्च के रूप में जाना जाता था और इसे वर्ष 1540 में बनाया गया था। "आवर लेडी " की मूर्ति  मनीला से सन् 1555 में तूतीकोरिन पहुची । 5 अगस्त 1582 पर एक नए चर्च का निर्माण किया गया था और जो 'आवर लेडी ऑफ मर्शी ' को समर्पित है ।  जब रोम में "मदर ऑफ स्नो " का पर्व मनाया जाता है उसी दिन इस चर्च में  यहाँ वार्षिक पर्व मनाया जाता है। बाद में इस चर्च को 'चर्च ऑफ आवर लेडी ...और अधिक पढें।

कट्टाबोम्मन मेमोरियल किला, पांचालंकुरुची

यह तूतूकुड़ी से 25 किलोमीटर दूर है। वीरापांडिया कट्टाबामा करुथय्या नायक पैलेस या वीरापांडिया कट्टबोममन  अंग्रेजों के खिलाफ आजादी की लड़ाई में पांचालंकुरुची का मुखिया था। वह करुथय्या में 1799 में अंग्रेजों द्वारा फाँसी। मेमोरियल किला जो पांचालंकुरुची में है ,वर्ष 1974 में तमिलनाडु की सरकार द्वारा बनाया गया था।   कट्टबोममन परिवार की कुल देवी जक्कम्मा का मंदिर किला परिसर में है । ब्रिटिश...और अधिक पढें।

कन्याकूमारी

यह केप कोमोरिन, कुमारी और कुमारी Munai रूप में भी जाना जाता है। यह राज्य की राजधानी चेन्नई से 118 किलोमीटर है। यह एक 'रॉकी मुख्य भूमि' पर तमिलनाडु राज्य में हिंद महासागर है और भारतीय उपमहाद्वीप के सबसे दक्षिणी  टिप  पर स्थित  है। कई लोग इसे कूडल भी बुलाते है जिसका अर्थ तीन महासागरों बंगाल की खाड़ी, अरब सागर और हिंद महासागर के संगम पर स्थित होना होता है। कन्याकुमारी लोकप्रिय है क्...और अधिक पढें।

कुटट्रलाम या कुटलालम

यह तिरुनेलवेली जिले में पश्चिमी घाट पर  एक छोटा सा शहर है जिसकी आबादी 3026 [2011 जनगणना]  है। छोटी पहाड़ियाँ अगस्तीयार मलाई की नीली धुंध में अदृश्य हो जाती हैं यह माना जाता है कि इसका नाम तमिल संत के नाम पर रखा गया है जो यहाँ रहते थे। कुट्रालम में कई झरने हैं एवं अनगिनत स्वास्थ्य रिसॉर्ट्स होने के कारण इसे "दक्षिण भारत के स्पा" के रूप मे जाना जाता है। ये झरना क्षेत्र चित्तर नदी, मणिमुथ...और अधिक पढें।

तिरुचेंदूर

तिरुचेंदूर भारत में दक्षिणी सिरे पर, तमिल नाडु के थूथुकुड़ी जिला का एक पंचायत कस्बा है । यह " तिरुचेंदूर मुरुगन मंदिर", जो एक प्राचीन हिन्दू  भगवान "मुरुगा" का निवास स्थान है ।यह मंदिर भगवान मुरुगन के   छह विशेष निवास स्थानों में से एक है जिन्हे अरुपदाई वीडू के रूप में बुलाया जाता है। यह दक्षिण भारत का एक लोकप्रिय तथा प्रमुख तीर्थ केंद्र  है। मंदिर में  17 वीं सदी का 156 फुट...और अधिक पढें।