पर्यटक स्थल


काँच मंदिर

इंदौर में स्थित काँच मंदिर, वस्तुतः काँच का एक प्रसिद्ध जैन मंदिर है, जो की सर सेठ हुकुमचन्द जैन द्वारा बनाया गया है। इसका निर्माण 1903 के आसपास शुरू किया गया था । फर्श, कॉलम, दीवारों और छत सहित, काँच मंदिर का इंटीरियर पूरी तरह से काँच पैनल और मोज़ाइक द्वारा कवर किया गया है । मंदिर में कार्य करने के लिए सेठ हुकुमचन्द द्वारा  जयपुर एवं ईरान से कुछ कारीगरों ...और अधिक पढें।

राजबाड़ा

राजबाड़ा होलकरों का ऐतिहासिक महल है। यह दो सदियों पहले बनाया गया था और यह छतरियों के पास स्थित है। यह एक सात मंजिला इमारत है, जो होलकारों की भव्यता का जीवंत उदाहरण है। राजबाड़ा शहर के मध्य में स्थित है, जबकि पुराना महल शहर के पुराने हिस्से की ओर एवं नया महल, उत्तरी हिस्से की ओर स्थित है। पुराना महल एक बहु मंजिला इमारत है , जो राजबाड़ा के एक प्रवेश द्वार के रूप में...और अधिक पढें।

ओंकारेश्वर

ओंकारेश्वर, हिंदू भगवान शिव को समर्पित मंदिर है। यह भगवान शिव के 12 श्रद्धेय ज्योतिर्लिंग में से एक ज्योतिर्लिंग है। यह नर्मदा नदी पर एक द्वीप पर स्थित है, जिसे मंधाता या शिवपुरी के नाम से जाना जाता है। ओंकारेश्वर के पास एक अन्य ज्योतिर्लिंग स्थित है जिसे ममलेश्वर ज्योतिर्लिंग के नाम से जानते है। कई लोगो की मान्यता है  कि ओंकारेश्वर और ममलेश्वर दोनों एक जै...और अधिक पढें।

मांडवगढ़ (मांडू)

वर्तमान में मांडवगढ़ धार जिले में स्थित है । यह धार शहर से 35 किलोमीटर की दूरी पर, भारत के पश्चिमी मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र में स्थित है। 11 वीं सदी में मांडू, तरंगगढ़ या तरंगा राज्य का उप विभाजन था। मांडू शहर ने परमरस के तहत 10 वीं और 11 वीं सदी में प्रसिद्धि प्राप्त की। मांडू का अपनी सामरिक स्थिति और प्राकृतिक सुरक्षा की वजह से, एक समृद्ध और विविध इतिहास के...और अधिक पढें।

उज्जैन

उज्जैन : यह प्राचीन शहर. क्षिप्रा के पूर्वी तट पर स्थित है , उज्जैन अपने इतिहास का, मध्य भारत के मालवा पठार पर, सबसे प्रमुख शहर था । यह 600 ईसा पूर्व के आसपास मध्य भारत के राजनीतिक केंद्र के रूप में उभरा । उज्जैन में जन हिंदू तीर्थ मेला "सिंहस्थ" लगता है, और इसे कुंभ मेले के रूप में मान्यता प्राप्त है । सिंहस्थ के दौरान हिंदु पवित्र नदी में स्नान करने के लिए इक...और अधिक पढें।

महेश्वर

महेश्वर शहर मध्यप्रदेश के खरगोन जिले में स्थित है । यह नेशनल हाइवे न.03 (आगरा -मुंबई) के पूर्व में 13 कि.मी. एवं  मध्यप्रदेश के वाणिज्य शहर, इंदौर से 91 कि.मी. पर स्थित है, यह शहर, नर्मदा नदी के उत्तरी किनारे पर स्थित है । यह  06 जनवरी 1818 तक मराठा होल्कर के समय में मालवा क्षेत्र की राजधानी थी। इसके बाद मल्हार राव होलकर तृतीय द्वारा इसे स्थानांतरित क...और अधिक पढें।