ना

उद्देश्य :  - “राष्ट्र के आर्थिक विकास और समृद्धि में योगदान करते हुए ग्राहक की सम्पूर्ण संतुष्टि के लिए अत्याधुनिक अवसंरचना उपलब्ध कराते हुए विमान यातायात सेवाओं और हवाई अङ्ङा प्रबंधन में संरक्षा एवं गुणवत्ता के उच्चतम स्तर प्राप्त करना”                                                                                                                                                                                                                                                                                                                 ध्येय  :   - “विमान यातायात सेवाओ एवं हवाई अड्डा प्रबंधन में नेतृत्व करते हुए विश्वस्तरीय संगठन बनाना एवं २०१६ तक एशिया प्रशांत क्षेत्र में भारत को एक प्रमुख केंद्र बनाना"
अग्निशमन सेवा

 

64 हवाईअड्डों एवं 02 प्रशिक्षण केंद्रों पर उपलब्‍ध हवाईअड्डा बचाव एवं अग्निशमन (ए आर एफ एफ) सेवा भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण के प्रशासनिक नियंत्रण में है, जो यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्‍मेदार है कि प्रदान की गई सेवा सुसंगठित, सुसज्जित, स्‍टाफ से युक्‍त, प्रशिक्षित एवं इस ढंग से प्रचालित हो कि वह एयरपोर्ट बचाव एवं अग्निशमन (ए आर एफ एफ) के अपने प्रमुख उद्देश्‍य को पूरा कर सके।
ए आर एफ एफ के पास मानकीकृत गतिविधियां हैं जो इकाओ के दिशानिर्देशों के अनुरूप हैं, जैसे कि उपकरणों/उपस्‍करों, जनशक्ति, प्रशिक्षण एवं मानक प्रचालन प्रक्रियाओं को शामिल करना।
ऐसी विभिन्‍न गतिविधियों एवं सेवाओं के लिए फायर आर्डर/परिपत्र, जो अग्नि सुरक्षा एवं आपातकालीन सेवाओं से संबंधित हैं।
हवाईअड्डे पर अग्निशमन केंद्र इस प्रकार से स्थित हैं कि एयरसाइड के किसी भी स्‍थान पर आपातकालीन स्थिति होने पर 2 से 3 मिनट के भीतर पूर्ण रूप से आपातकालीन बचाव प्रारम्भ कार्य कर सकें।
हवाईअड्डा अग्निशमन केंद्र के कार्मिक अग्निशमन एवं सुरक्षा प्रबंधन में प्रशिक्षित हैं जो अन्तरराष्‍ट्रीय नागर विमानन संगठन (इकाओ) की अपेक्षाओं को पूरा करते हैं। हवाईअड्डा अग्निशमन सेवा ऐसी सभी एजेंसियों की तत्‍परता की जांच करने के लिए वार्षिक आपातकालीन अभ्‍यास का आयोजन करती है  जो हवाईअड्डे पर उत्‍पन्‍न होने पर किसी वास्‍तविक आपातकालीन स्थिति में शामिल होंगी।
अग्निशमन सेवा का ब्‍यौरा  
हवाईअड्डा अग्निशमन सेवा विभिन्‍न कॉलों का जवाब देता है जिसमें मुख्‍य रूप से एयरक्राफ्ट, चिकित्‍सा, सामान्‍य आग तथा हानिकर पदार्थों से जुड़े आपातकाल शामिल होते हैं। नागर विमानन नियमावली का सतत अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए व्‍यापक श्रेणी की एयर फील्‍ड सेवाएं भी संपन्‍न की जाती हैं जिसमें रनवे का निरीक्षण, रनवे सर्फेस एवं विजिबिलिटी का मूल्‍यांकन, पक्षी नियंत्रण, हाउस कीपिंग, सुरक्षा निरीक्षण एवं लेखा परीक्षा शामिल है। हवाई अड्डा अग्निशमन सेवा में 2759 कार्मिकों का दल है। हवाई अड्डा अग्निशमन सेवाहवाई अड्डे पर 24 घंटे आपातकालीन सेवा प्रदान करता है।
इस समय हवाई अड्डा अग्निशमन सेवा में कुल 2759 कार्मिक हैं जिसमें कार्यपालक एवं गैर कार्यपालक स्‍टाफ शामिल हैं जो विभिन्‍न क्षेत्रों जैसे कि प्रचालन यूनिट, प्रशिक्षण एवं विकास, अग्नि सुरक्षा योजना में काम कर रहे हैं।  
64 हवाई अड्डों का प्रबंधन करने के लिए, 213 हवाई अड्डा बचाव एवं अग्निशमन वाहन (ए आर एफ एफ वी) तथा 131 एंबुलेंस हैं।
हवाई अड्डों पर ए आर एफ एफ सेवा की गतिविधियां

  1. आग की रोकथाम तथा सुरक्षा
  2. आग की जांच करना तथा विश्‍लेषण करना
  3. इकाओ के अनुसार उड़ान प्रचालन को सुरक्षा कवरेज प्रदान करना
  4. हवाई अड्डा अवसंरचना को सुरक्षा कवरेज प्रदान करना
  5. अन्‍य अग्नि सुरक्षा सहायता सेवाओं के साथ अग्निशमन में परस्‍पर सहायता करना
  6. हवाई अड्डों पर अग्निशमन दल एवं अन्‍य एजेंसियों को प्रशिक्षण देना
  7. यात्रियों को एंबुलेंस सेवा प्रदान करना

अग्नि सुरक्षा का स्‍तर
इकाओ मानक के अनुसार एयरपोर्ट की अभिनिर्धारित श्रेणी के अनुसार एयरक्राफ्ट बचाव एवं अग्निशमन (ए आर एफ एफ) के प्रयोजनार्थ सुरक्षा का स्‍तर उपलबध कराया जाता है।
विमान के आयाम एवं मूवमेंट के आधार पर, उपलब्‍ध कराए गए अग्निशमन वाहनों की उपलब्‍धता के अनुसार अभिनिर्धारित श्रेणी के हवाई अड्डे के लिए सुरक्षा के अपेक्षित स्‍तर को बनाए रखना होता है।
हवाईअड्डा इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर फायर से लड़ने के लिए उपलबध अग्निशमन सुविधाएं

  1. फर्स्‍ट एड फायर फाइटिंग उपकरण
  2. आटोमेटिक डिटेक्‍शन एंड अलार्म सिस्‍टम
  3. हाइड्रैंट सिस्‍टम
  4. स्प्रिंक्‍लर सिस्‍टम

 

अग्नि सेवा प्रशिक्षण केंद्र (कोलकाता)

अग्नि प्रशिक्षण केंद्र (दिल्‍ली)

 

 

आखिरी बार अपडेट करने की तारीख : 20 अक्‍टूबर, 2010